मध्यप्रदेश में ये घटनाओं का होना अजीब है | जहा लोग प्यार से रहते थे अज यहाँ बस जलाई जा रही है.

42

मध्यप्रदेश में ये घटनाओं का होना अजीब है | जहा लोग प्यार से रहते थे अज यहाँ बस जलाई जा रही है.

मध्यप्रदेश मे किसानों का आंदोलन हिंसक हो गया है मंदसौर जिले में प्रदर्शन कर रहे किसानों पर पुलिस ने फायरिंग की जिसमें दो किसानों की गोली लगने से मौत हो गई. म.प्र.मे किसानो के साथ जो हो रहा हे वो बहुत ही निन्दनीय ओर पीड़ादायक हे…. “जो सरकार किसानो से टकरायेगी,वो आने वाले चुनाव मे…

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस मामले को लेकर अधिकारियों की आपात बैठक बुलाई है. कई इलाकों में किसान आंदोलन के कारण चीजों की कीमतें आसमान छू रही है.

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को अपनी सरकार को किसान हितैषी बताया था. उन्होंने कहा था कि उनकी सरकार सदैव किसानों के कल्याण के लिये कार्य करती है. जो लोग आंदोलन समाप्त होने की घोषणा के बाद भी हिंसा एवं उपद्रव कर रहे हैं, वे किसान नहीं, बल्कि असामाजिक तत्व हैं.

इस दौरान कुछ ट्रकों में आग लगाने की कोशिश भी की गई. हालात पर काबू पाने के लिए पुलिस ने फायरिंग कर दी. बताया जा रहा है कि गोली लगने से 3 किसानो की मौत हो गई है.

प्रदेश में कर्ज माफी और अपनी फसल के वाजिब दाम की मांग को लेकर किसानों की हड़ताल मंगलवार को छठे दिन भी जारी है. सोमवार रात मंदसौर जिले में किसानों ने रेलवे क्रांसिंग गेट को तोड़ने के साथ पटरी उखाड़ने की कोशिश की. इसके अलावा जिले में इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया गया है.

मंदसौर के पुलिस अधीक्षक ओ. पी. त्रिपाठी ने बताया कि सोमवार की देर रात को दालोद पुलिस चौकी क्षेत्र में किसानों ने सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन किया और रेलवे क्रासिंग के गेट को तोड़ दिया. इसके अलावा उन्होंने पटरियों के बीच के स्लीपर पर लगे लोहे के एंगल को नुकसान पहुंचाया.